Wednesday, May 24, 2006

हे!! गाइड देवता

Thesis writing is always a frustrating exercise. Here goes my imaginative creation titled "''He!! GUIDE Devta".,

जब से ‘Thesis’ की बात चली है,
Frustration की उलटी घात चली है
महीना बीत गया है,
दिमाग रीत गया है
‘Case Study’ की छोड़ो --
‘Objective’ भी नहीं हुआ है
Thesis ज्यों का त्यों पड़ा है
'विद्यार्थी' चौराहे पे खड़ा है I I

हे!! गाइड देवता
तू क्या जन्म से सड़ा है
मेरे ही पीछे पड़ा  है
आत रोज़ मिलने घबराया सा
चकित-दलित भरमाया सा
तू  ‘illustrate’ नहीं  ‘illuse’ करता है
तू  ‘clear’ नहीं ‘confuse’ करता है
तू जो करता बकवास है,
क्या मेरी पीड़ा का एहसास है ??


हे!! गाइड देवता
या तो तुम कुछ करो--
या मुझे कुछ करने दो
‘Degree’ की आस रहने दो,
मुझे ‘thesis’ पास करने दो,
मुझे ‘thesis’ पास करने दो I I 

3 comments:

Rohit said...

Achha hai. Guide ka kuch kiya ki nahi. kuch nahi kiya to..kavita likh kar kya kiya.

chandan said...

Great..can relate to all u say thru my experiences as well in the thesis days... BTW what was ur thesis topic...am keen to know

namita said...

hey kauki... good u chhappoed this here... one cool one for sure... baaki kahan hai??... kucch aur likh na ab oxford pe..